तमन्ना‬ तो हर एक ‪‎पंखुडी‬ को सजा के ‪रखने‬ की थी,

पर ‪‎अफसोस‬ की तुमने‬ कोई फूल ‎दिया‬ ही नहीं !!