सपनों की दुनिया मे हम खोते चले गये,

होश मे थे मगर मदहोश होते चले गये,



जाने क्या बात थी उनकी आवाज मे,

ना चाहते हुये भी उनके होते चले गये