जिन्दगी जब देती है,
तो एहसान नहीं करती
और जब लेती है तो,
लिहाज नहीं करती
दुनिया में दो ‘पौधे’ ऐसे हैं
जो कभी मुरझाते नहीं
और
अगर जो मुरझा गए तो
उसका कोई इलाज नहीं।
पहला – ‘नि:स्वार्थ प्रेम’
और
दूसरा – ‘अटूट विश्वास’